Thursday 8 April 2010

सामराज्य

मेरे हृदय में सामराज्य
जो बनाया है आपने,
अभी राजधर्म निभाइये!

No comments:

Bookmarking

Bookmark and Share