Thursday 29 April 2010

फ़ासले

ख़्वाहिश तो यही है कि
तुमसे फ़ासले रखूँ
पर हर राह तुम्हें ही
मनज़िल बनाती है

No comments:

Bookmarking

Bookmark and Share