Skip to main content

फ़ासले

ख़्वाहिश तो यही है कि
तुमसे फ़ासले रखूँ
पर हर राह तुम्हें ही
मनज़िल बनाती है

Comments