Skip to main content

Posts

Showing posts from November, 2010

வெள்ளீ

வெள்ளீக்கு அழகு அதின் மின்மினிப்பிலா, இல்லை உன் காலில் கட்டிய கொளுசின் மெல்லிசையிலா?
(Is silver's beauty in its cold shine, or the soft tinkles of the anklets on your feet?)

शब-ए-हिज्र / Night of rupture

पगले रो दे इस शब-ए-हिज्र को,
के दर्द-ए-जुदाई आँसुओं में बह जाए...

जो ख़लिश-ए-अज़्ल के बरूह हैं,
क्या गर्ज़ उन्हे तेरी यादों के कफ़न की?

پگلے رو دے اس شب حجر کو ،
کہ درد جدائ آنسؤں میں بہ جائ ۔ ۔ ۔

جو خلش ازل کہ بروہ ہےں ،
کیا گرز انہےں تیری یادوں کہ کفن کی

Cry fool, this night of rupture,
that separation's pain wash away in tears...

those facing the void of eternity,
need they the shroud of your memories?

Happy Diwali

Some lamps you light will burn through the night,
Many will die with the wind, some won't light at all.
But the flame that you must never let die away,
Is the flame that lets you see your dreams.

ghazal in progress

यह चिराग़ रौशन कर भी अन्धेरा है, जो तेरा नूर ए रूह नामौजूद है, जब तिश्नगी जलाकर बुझ ना पाए, यूरिश ए मॊहब्बत कम ना होगी|

Dow Jones

Nothing elevateslike watching dough rising and the Joneses falling.
or
Nothing elevates like watching the Dow rise and the Joneses falling.
(Second one on a interpretation of the original by S. Balakrishnan)

सपने

कुछ सपने पूरे होंगे, और बहुत अधूरे, कुछ सपने सपने ही रह जाएँगे| लेकिन उस चिराग़ को कभी बुझने मत देना, जिसक रौशनी से सपने दिखते हैं|