Skip to main content

इन्तेज़ार

कितना सितम देता है यह तेरा इन्तेज़ार,
आँखें ताकती रहती हैं राह को बेकरार,
रस्ते पर न पड़ती है परछाई तेरी,
न होने देती है पैमाने में ख़ुमार

Comments