Thursday 8 April 2010

न आना

न आना बेसाख़ता मेरे आशियाने में,
फ़र्श को अब मेरे कदमों से ऐतराज़ है|

No comments:

Bookmarking

Bookmark and Share