Wednesday 27 October 2010

Playful delight

Trees dice the sunlight,
turning a blinding white into
a playful delight.

Tuesday 26 October 2010

फूल बिना काँटे

फूल बिना काँटे,
मुर्झाये यौवन को याद
करता यह बदन

Ink

Ink is DNA,
writing thhe poem anew
for every reader.

Endlessness

Workday screen-staring,
Saturday suburbanry:
cycling endlessness.

Eternal haiku

Three mobile phone friends,
endless sms poems,
eternal haiku.

नीयत है दिल की...

नीयत है दिल की ख़्वाहिशों पर मचलना,
नसीब है पैरों का पत्थरों पर चलना,
पर सिर्फ़ वक़्त फ़ैसला करता है ख़ाना बदोश,
किस दिन मुरझाना है, किस तारीख़ को खिलना

Friday 22 October 2010

परदे के पीछे रोये

दीवान-ए-आम में हँसते रहे, परदे के पीछे रोये,
पर क्या रोना क्या हँसना, जिसके दरबार में परदे ही नहीं?

Thursday 21 October 2010

She's complicated

She's complicated.
She'll charm you with charts,
statistics and that corporate smile.
But look into those eyes,
they're fiercely bohemian.

She's complicated.
Her chatterings seem to resonate
with happy sounds,
but listen with the other ear,
to an unhidden lament.

She's complicated.
Her silences agonise,
her voice echoes in her absence.
And yet there is a mild dread
as her name flashes on the ringing phone.

She's complicated.
Sometimes she's a poetess,
shallow, romantic,
trying to hide a sardonic,
world-weary wit.

She's complicated.
She could be a spiteful Fury,
wrath unabated,
but that's just to hide
the lamb-hugging girl within.

She's complicated.
She's an enchantress, a fool,
a tyrant, a nurse, an imp, a priestess,
but she's generally
a good friend.

She's complicated.

[Published in Making Waves, ed. Pam & Bill Swyers; Swyers Publishing 2011]

Wednesday 20 October 2010

लतीफ़े

कभी लतीफ़े ही भेज दिया करो,
इस बहाने मेरा नाम आपके
षमने तो आएगा!

The Heart

The heart amuses
itself in teaching what it
never understood.

Sunday 17 October 2010

To make a man of a mouse

Take a mouse, cut off its tail,
And make it stand up, hobbling
On crutches named Pride and Honour.

Feed it with many things -
The bitter bile of frustrated years,
The sour curds of congealed dreams,
The sickly sweetness of petty triumphs.

Make it breathe the rancid stench
Of Gucci-scented wretchedness
And middle-class motionlessness.

Retain the ability to compete fiercely,
For scraps thrown by the rich,
The instinct to abandon the weak
In moments of testing danger
and to gorge as if tomorrow will die.

Put in a hundred emotions -
Petty envy, religious zeal,
Impotent greed and the craving bloodlust
Of seeing neighbours stumble,
The joy of minuscule cleverness,
The urge to steal coins from blind beggars
And to luxuriate in the pain
Of butchered animals. Add above all
A genocidal hate of all that is not me.

Suture on a thumb useful for strangulating,
A beer belly bursting
With undigested unpleasantness,
A lye-laden tongue,
And the tribal smirk of triumphant bigotry.

The mouse is now made man.

आज शहर में मेला लगा है

आज शहर में मेला लगा है|

बस की खिड़की से आज नज़ारा बदल गया है,
आज न टूटा फ़ुटपाथ दिखा, न सड़क के गड्ढे,
उन्हें रंग-बिरंगे चीज़ें बेचनेवालों के ठेलों ने ढक दिया,
आज सिर्फ़ रंग दिखे ‍ हज़ारों खिलखिलाते रंग -
हरे, नीले, लाल, गुलाबी, पीले, श्वेत, श्याम -
मिट्टी, प्लास्टिक और लकड़ी से बने खिलौनों का रंग,
गुब्बारों का रंग, कागज़ की टोपियों का रंग,
काँच की चूड़ियों का रंग, नकली फूलों का रंग,
अजीबोग़रीब तरह-‍तरह के कान की बालियों का रंग,
और इन सब में घुले बच्चों की लाली का रंग|

आज न सड़ते कचरे की बू थी न मोटर के धुएँ की
आज बस थी ताज़े गजरों की सुगन्ध,
गरम तलते इमरतियों की मोह का सुगन्ध,
कचौड़ियों की ललचाती ख़ुशबू, इडली-वडे की,
और कुल्फ़ी की वह पलभर की नाज़ुक सी ख़ुशबू|

आज ट्राफ़िक के हार्न तो बजे थे रोज़ की तरह,
और यत्रियों की गालियाँ भी थीं शायद,
पर मेरा ग़ौर कहीं और था -
लडकियाँ चूड़ी खनखना रहे थे,
बच्चे-बच्चे का शोर था, हँसते बच्चे, रोते बच्चे,
ज़िद्द पे अडे ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाते बच्चे -
ठेलेवालों की पुकार थी - गरमा-गरम समोसे,
मनमोहक चुनरियाँ, मस्ती भरे प्लास्टिक के ट्रम्पेट,
सब बिक रहे थे, "भारत का नाम, चीन का दाम"|

और इन सब के बीच एक आवाज़ गूँजी,
हलके, मद्धम स्वर मे ‍ एक शहर की धुन
जो अपने माल, स्टेशन, बस स्टैंड को भूल,,
चन्द घन्टों के लिये ही सही,
एक बड़ा सा बच्चा बन गया था;

मैं इस गूँज की तलाश में,
अपनी दुनियादारी बस में छोड़ आय‌
और मेले में खो गया|

Tuesday 12 October 2010

तलाश

मेले के गुब्बारे भी ख़ामोशी की तलाश में भटकते होंगे,
पूनम का चान्द अमावस की आस रखता होगा,
शहर की बसें किसी गाँव का रस्ता ढूँढती होँगी,
सागर की मछलियाँ किसी वीरान कुएँ का ख़्वाब देखतीं|

मैंने न तलाश की न ख़्वाब देखे,
इन सियाही की लकीरों में
मैं कबसे गुमशुदा हूँ|

Sometimes

Sometimes
one's an elephant amok in the bazaar,
helping oneself to the apples;

more often
one's a cockroach at one with the road,
steamrolled paper-thin.

Pockmarks

My face is
pockmarked
with breaking dreams, hope
oozing
away like yellow-red pus;
the body
haemorrhages
desires to the ceaseless
illness of survival.

But the blood
festers
within,
raging
impassionedly, impotently until it
bursts
through,
ebbs,
clots
and
dries
among feeding flies.

[Published in Making Waves, ed. Pam & Bill Swyers; Swyers Publishing 2011]

Monday 11 October 2010

Drops

As little drops tame
the blazing sun, the thirsting
earth spins wild with joy.

Bookmarking

Bookmark and Share