Skip to main content

आज प्रशंसा प्राप्त होगी

आँखें खुलीं इस आशा में कि आज प्रशंसा प्राप्त होगी|
बहुत प्रतीक्षा के बाद कुछ तो आज प्रशंसा प्राप्त होगी|
हर लिखनेवाले के जीवन का यही सहारा है कि
आज कविता पढ़ी जाएगी, आज प्रशंसा प्राप्त होगी||

यह कृति उमर बहुभाषीय रूपांन्तरक की मदद से देवनागरी में टाइप की गई है|

Comments