Skip to main content

ग़ज़ल

कहानी शाद हो, नशाद हो, ग़ज़ल में भुलाता चला गया
हर ग़म, हर ख़ुशी का बयान ग़ज़ल में घुलाता चला गया

Comments