Skip to main content

सोनेट हेलेन

रोशनदान जलाए, तुम अपनी ज़िन्दगी की शाम में,
वहशत में नशीन, आहिस्ता, आहिस्ता आहें भरकर
तुम कहोगी, मेरे अशीर दोहराते, ता'ज्जुब करकर,
खुद रोनसार्द ने दाद दिया था, ज़िन्दगी के सहर में|

उस वक़्त एक ना होगा ख़िदमतगार, जो हाल-ए-मलाल में,
ग़फलत में डूबता हुआ तुम्हारे शिकवे ना सुनकर,
पर मेरा ज़िक्र होते बक्षेगा यक लख़्त नींद से उठकर,
उस शा'यर को जिसने तुम्हें अबरी किया नज़्मों में|

मैं तो गढ़ा रहूँगा ज़मीन तले, एक याद बने
तुम ज़'इफ, गिलाह करोगी हर लम्हा, नाशाद बने|
मेरा आरामगाह पीपल की ठंडी पनाह में होगा

तुम तन्हा बुज़ुर्गा अपने गुमान का करोगी ज़ार|
मेरा ऐतबार करो तो कल का ना करो इन्तेज़ार
बटोरो हर गुलाब जो आज तुम्हारे राह में होगा|

Transcreated from Pierre de Ronsard's Sonnet pour Hélène. I have tried to keep the structure intact, except for interchanging lines 10 and 11 for sake of rhyme, and changing the original's myrtle to the more familiar peepal, and removing references to spinning wool.

Comments

Popular posts from this blog

உன்னைத் தேடும் கண்கள்

நீ வருவாய், நீ வருவாய், உனை நினைத்து ஏங்கும் கண்கள்
கடற்க்கரை நாடும் அலைகளைப்போல் உனைத் தேடும் கண்கள்

மணத்தில் மயங்கி, மலரைத் தேடிக்கொண்டு இங்கும் அங்கும்
அலையும் ஒவ்வொரு பட்டாம்பூச்சிப்போல் உனைத் தேடும் கண்கள்

மலை இறங்கி, நிலம் தாண்டீ, கரை எங்கே கரை எங்கே
கடலைத் தேடீக்கொண்டு ஓடும் ஆறுபோல் உனைத் தேடும் கண்கள்

கடலிருந்து காற்றை வ்ழி கேட்டு, வானை வழி கேட்டு,
புவியை தேடி வரும் கார்முகில்போல் உனைத் தேடும் கண்கள்

ஆயிரம் ஆண்டு ஒரே வேட்கையில் தனை எரித்துக்கொண்டு
ஆதவனைச் சுற்றி வரும் வால்மீன்போல், உனைத் தேடும் கண்கள்

உனை புகழ சொல் இல்லாமல் இருக்கிரான் 'வழிப்போக்கன்',
கண்ண்னைத் நாடி பாடிய மீராப்போல், உனைத் தேடும் கண்கள்

Published in Amaravati Poetic Prism 2016
ed. Padmaja Iyengar,
Cultural Centre of Vijayawada & Amaravati

बिन बहर के ग़ज़ल

बिन जुनून के चाहत ऐसी, बिन बहर के ग़ज़ल जैसी,
बिन इज़्तिराब के 'श्क़ ऐसी, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

हर लफ़्ज़ हर याद में ढूँढता हूँ, तुम्हारी आवाज़ की सरगम,
हर बात बेमतलब लगती है, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

वक़्त के भुलाए ख़्वाब जैसे, बिन महक के फूलों जैसे,
ज़िन्दगी बेजान लगती है, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

ख़ामोशी के आसमाँ से आँसुओं की बारिश गिरा दे
बिन बादल के फ़लक ऐसे, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

इन सुनसान दीवारों पर अपनी हंसी के रंग चढा दे,
बिन पनाह के मकान ऐसे, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

लडखडाओ, डगमगाओ, झलक दो के तुम इन्सान हो
बिन जज़्बे के आँखें ऐसे, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

यह कृति उमर बहुभाषीय रूपांन्तरक की मदद से देवनागरी में टाइप की गई है|