Skip to main content

चान्दनी

चान्दनी बादलों में से ऐसे छुप छुपकर आई,
जैसे तेरी पायलों की झनकार ज़नाने की
जालियों से आती है|

Comments