Skip to main content

साकी साथ निभाना , ﺳﺎﻛﯽ ﺳﺎﺗﮫ ﻧﹻﺒﮭﺎﻧﺎ


ﺩﺭﺩ ﻭ ﻏﻢ ﰷ ﭘﹷﻴﻤﺎﻧﺎ ﻛﺒﮭﯽ ﻛﻢ ﻧﺎ ﮨﻮ ، ﺳﺎﻛﯽ ﺳﺎﺗﮫ ﻧﺒﮭﺎﻧﺎ
ﻛﻪ ﺍﺳﻜﯽ ﻧﺎﻣﹷﻮﺟﻮﺩﮔﯽ ﰷ ﺳﺘﻢ ﻧﺎ ﮨﻮ ، ﺳﺎﻛﯽ ﺳﺎﺗﮫ ﻧﺒﮭﺎﻧﺎ

दर्द ओ ग़म का पैमाना कभी कम ना हो, साकी साथ निभाना
कि उसकी नामौजूदगी का सितम ना हो, साकी साथ निभाना

ﺍﺳﻜﮯ ﭼﺸﻢ ﯼ ﻣﺴﺖ ﰷ ﻧﺸﻪ ﻋﺎﺭﺿﯽ ﮨﮯ ، ﮨﻮﺵ ﺁﻧﮯ ﻣﻴﮟ ﺩﻳﺮ ﻧﮩﻴﮟ
ﺍﻥ ﺁﻧﻜﮭﻮﮞ ﺳﮯ ﺳﭽﹽﺎﯼ ﰷ ﺑﮭﺮﻡ ﻧﺎ ﮨﻮ ، ﺳﺎﻛﯽ ﺳﺎﺗﮫ ﻧﺒﮭﺎﻧﺎ


उसके चश्म ए मस्त का नशा 'आरज़ी है, होश आने में देर नहीं
उन आँखों से सच्चाई का भरम ना हो, साकी साथ निभाना

ﺟﻮ ﻣﺬﮨﺐ ﻛﮯ ﻓﺪﺍﻳﻴﻦ ﺑﻨﮯ ﭘﮭﺮﺗﮯ ﮨﻴﮟ ، ﺍﻧﺴﮯ ﻣﻴﮟ ﺑﮭﺎﮒ ﺁﻳﺎ
ﰷﻓﺮ ﻛﮩﻼﻳﮯ ﺟﺎﻧﮯ ﰷ ﺷﺮﻡ ﻧﺎ ﮨﻮ ، ﺳﺎﻛﯽ ﺳﺎﺗﮫ ﻧﺒﮭﺎﻧﺎ

जो मज़हब के फिदायीन बने फिरते हैं, उनसे मैं भाग आया
काफ़िर कहलाये जाने का शरम नहीं, साकी साथ निभाना

ﺟﺴﮯ ﻣﹷﻴﻨﮯ ﻓﺮﺯ ﺳﻤﺠﮭﺎ ، ﺍﺳﮯ ﺍﺣﻞ ﯼ ﺳﻔﺎ ﻧﮯ ﺧﺪﮔﺮﺯ ﻛﮩﺎ
ﻛﻪ ﺷﻜﻮﮮ ﻏﺎﻳﺐ ﮨﻮﻧﮕﮯ ﻳﻪ ﻭﮨﻢ ﻧﺎ ﮨﻮ ، ﺳﺎﻛﯽ ﺳﺎﺗﮫ ﻧﺒﮭﺎﻧﺎ

जिसे मैंने फ़र्ज़ समझा, उसे अह्ल ए सफ़ा ने ख़ुदगर्ज़ कहा,
के शिकवे ग़ायब होंगे यह वहम ना हो, साकी साथ निभाना

ﻧﺴﻞ ﻭ ﺧﻮﻥ ﻛﯽ ﺯﹽﻣﻴﺪﺍﺭﯼ ﺧﻮﺏ ﺍﺩﺍ ﻛﯽ ، ﻛﹷﻮﻥ ﻣﻴﺮﺍ ﻣﺸﻜﻮﺭ
ﺟﺐ ﻛﺴﯽ ﰷ ﭘﻨﺎﻩ ﻧﺎ ﮨﻮ ، ﺭﺣﻢ ﻧﺎ ﮨﻮ ، ﺳﺎﻛﯽ ﺳﺎﺗﮫ ﻧﺒﮭﺎﻧﺎ

नस्ल ओ ख़ून की ज़िम्मेदारी ख़ूब अदा की, कौन मेरा मशकूर?
जब किसी का पनाह ना हो, रहम ना हो, साकी साथ निभाना

ﻧﻈﻢ ﻭ ﻏﺰﻝ ﻟﻜﮭﻨﺎ ، ﻗﺎﻓﻴﮯ ﻣﻼﻧﮯ ﰷ ﻃﻠﺐ ﭘﺎﻻ ﮨﮯ
ﭘﺮ ﻣﺼﻨﻮﻋﯽ ﺗﻌﺮﻳﻒ ﻣﻴﺮﯼ ﺣﺮﻡ ﻧﺎ ﮨﻮ ، ﺳﺎﻛﯽ ﺳﺎﺗﮫ ﻧﺒﮭﺎﻧﺎ

नज़्म ओ ग़ज़ल लिखना, क़ाफिये मिलाने का तलब पाला है,
पर मसनू`ई त`आरीफ़ मेरी हरम ना हो, साकी साथ निभाना

ﻭﻩ ﺗﻤﮩﺎﺭﮮ ﮨﯽ ﻣﹷﻴﺨﺎﻧﮯ ﻣﻴﮟ ﺁﺗﺎ ﺭﮨﻴﮕﺎ ﺧﺎﻧﺎ ﺑﺪﻭﺵ
ﺟﺴﻜﮯ ﻧﺴﻴﺐ ﻣﻴﮟ ﻛﻮﯼ ﻧﺸﻴﻤﻦ ﻧﺎ ﮨﻮ ، ﺳﺎﻛﯽ ﺳﺎﺗﮫ ﻧﺒﮭﺎﻧﺎ

वो तुम्हारे ही मैख़ाने में आता रहेगा 'ख़ाना बदोश'
जिसके नसीब में कोई नशेमन ना हो, साकी साथ निभाना


Urdu typed with the help of http://tabish.freeshell.org/u-trans/uconvert.html
Keychart at http://www.freewebs.com/rizwanrizvi/keychart.html

Comments

Popular posts from this blog

உன்னைத் தேடும் கண்கள்

நீ வருவாய், நீ வருவாய், உனை நினைத்து ஏங்கும் கண்கள்
கடற்க்கரை நாடும் அலைகளைப்போல் உனைத் தேடும் கண்கள்

மணத்தில் மயங்கி, மலரைத் தேடிக்கொண்டு இங்கும் அங்கும்
அலையும் ஒவ்வொரு பட்டாம்பூச்சிப்போல் உனைத் தேடும் கண்கள்

மலை இறங்கி, நிலம் தாண்டீ, கரை எங்கே கரை எங்கே
கடலைத் தேடீக்கொண்டு ஓடும் ஆறுபோல் உனைத் தேடும் கண்கள்

கடலிருந்து காற்றை வ்ழி கேட்டு, வானை வழி கேட்டு,
புவியை தேடி வரும் கார்முகில்போல் உனைத் தேடும் கண்கள்

ஆயிரம் ஆண்டு ஒரே வேட்கையில் தனை எரித்துக்கொண்டு
ஆதவனைச் சுற்றி வரும் வால்மீன்போல், உனைத் தேடும் கண்கள்

உனை புகழ சொல் இல்லாமல் இருக்கிரான் 'வழிப்போக்கன்',
கண்ண்னைத் நாடி பாடிய மீராப்போல், உனைத் தேடும் கண்கள்

Published in Amaravati Poetic Prism 2016
ed. Padmaja Iyengar,
Cultural Centre of Vijayawada & Amaravati

बिन बहर के ग़ज़ल

बिन जुनून के चाहत ऐसी, बिन बहर के ग़ज़ल जैसी,
बिन इज़्तिराब के 'श्क़ ऐसी, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

हर लफ़्ज़ हर याद में ढूँढता हूँ, तुम्हारी आवाज़ की सरगम,
हर बात बेमतलब लगती है, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

वक़्त के भुलाए ख़्वाब जैसे, बिन महक के फूलों जैसे,
ज़िन्दगी बेजान लगती है, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

ख़ामोशी के आसमाँ से आँसुओं की बारिश गिरा दे
बिन बादल के फ़लक ऐसे, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

इन सुनसान दीवारों पर अपनी हंसी के रंग चढा दे,
बिन पनाह के मकान ऐसे, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

लडखडाओ, डगमगाओ, झलक दो के तुम इन्सान हो
बिन जज़्बे के आँखें ऐसे, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

यह कृति उमर बहुभाषीय रूपांन्तरक की मदद से देवनागरी में टाइप की गई है|