Skip to main content

लतीफ़े

गीत लिखकर गुमनाम
न रह, दो लतीफ़े लिख,
शोहरत बरसेगी|

यह कृति उमर बहुभाषीय रूपांन्तरक की मदद से देवनागरी में टाइप की गई है|

Comments