Friday 20 August 2010

बग़ावत

बग़ावत करूँ भी तो किससे,
ना ग़ुलाम हूँ किसी का,
ना अज़ाद हूँ किसी से

No comments:

Bookmarking

Bookmark and Share