Skip to main content

हवस

आया था बेलिबास, जाऊँगा बाकफ़न,
क्यों रखूँ हवस रेशम-ओ-ज़र का?

Comments