Friday 3 December 2010

सरहद

जब दिल की मंज़िल सितारे हैं,
परवाज़ की सरहद बादल क्यों होंगे?

No comments:

Bookmarking

Bookmark and Share