Friday 3 December 2010

यारों-दोस्तों से...

यारों-दोस्तों से ज़रा होशियार, रंग कब बदल जाएँ वह ख़ुद नहीं जानते|
दुश्मनों के लिए रखो कुछ प्यार, मुहिब्ब कब बन जाएँ वह ख़ुद नहीं जानते||

No comments:

Bookmarking

Bookmark and Share