Monday 2 November 2009

फ़रेब

लोग कहते हैं तुम्हारा इश्क़, इश्क़ नहीं फ़रेब था|
हम नहीं मानते ‍ तुम्हारे फ़रेब को भी हम इश्क़ ही समझेंगे|

No comments:

Bookmarking

Bookmark and Share