Friday 21 August 2009

गिरने दो दीवारों को

गिरने दो दीवारों को ताकि नए आशियाने बनेंगे|
धूल में मिल जाने दो उन्हें ताकी गुज़रे ह्ंगाम बीत जाएँगे||
खन्ड़रों को गिराकर एक नया दौर बनाएंगे तुम और हम|
गिरने दो दीवारों को ताकि नए आशियाने बनेंगे||

No comments:

Bookmarking

Bookmark and Share