Tuesday 16 November 2010

जादू

ऐ नमक के घोल तेरा भी क्या जादू,
जो आँसू बनकर हर ग़म घुला दे!

No comments:

Bookmarking

Bookmark and Share