Skip to main content

ना उड़ सके न गिर सके

ज़िन्दगी जो मिली ज़रा हमें, ना जी सके ना मर सके,
पनपते मुर्झाते ख़्वाब यह बुनते, ना उड़ सके न गिर सके|

सोचा थी कि दौड़ लगाएँगे साहिल को मन्ज़िल बनाकर हम,
पर थम गए पहुँचते पहुँचते, ना उड़ सके न गिर सके|

ख़्वाबिदा महल जो बनाते फिरते थे अब्र-ए-बहार में हम,
बस रह गए ग़म परखते चुनते, ना उड़ सके न गिर सके|

कभी तरक्की से रिन्दा ख़ुद को जाविदा समझते थे हम,
अब कारागाह की दीवार खरोंचते, ना उड़ सके न गिर सके|

ना राह क़बूल ना गाह क़बूल, फिरते रहे 'ख़ाना बदोश' हम,
मुनतज़िर मौत की आवाज़ सुनते, ना उड़ सके न गिर सके|


زندگی جو ملی زرہ ہمےں ، نا جی سکے نا مر سکے ،
پنپتے مرجھاتے خواب یہ بُنتے ، نا اُڑ سکے نا گر سکے ۔


سوچا تھا دوڑ لگائنگے ساھل کو منزل بناکر ہم ،
پر تھم گئے پہنچتے پہھنچتے ، نا اُڑ سکے نا گر سکے ۔

خوابدآ محل جو بناتے پھرتے تھے ابر ی بحار مےں ہم ،
بس رہ گئے غم پرکھتے چنتے ، نا اُڑ سکے نا گر سکے ۔

کبھی ترقّی سے رندہ خد کو جاودا سمجھتے تھے ہم ،
اب کاراگاہ کی دیوار کھرونچتے ، نا اُڑ سکے نا گر سکے ۔

نا راہ قبوُل نا گاہ قبوُل ، پھرتے رہے خانا بدوش ہم
منتظر موت کی آواز سنتے ، نا اُڑ سکے نا گر سکے ۔ا

Comments

Max Babi said…
Wow, Raamesh, this is far better than the get-a-squint-in-your-eye exercise at FB. Far far better...
Couldn't see a single nit to pick, your Urdu spellings seem pretty good, and there is a maturity in your writing that astonishes me.
Cheerz!

Max
Ozymandias said…
Thank you so much, Max. As for the maturity, I think it comes from following that old saying: be a companion to the wise, and you will be wise yourself. Sangat ka asar hai, as they say in Hindustani!

Popular posts from this blog

உன்னைத் தேடும் கண்கள்

நீ வருவாய், நீ வருவாய், உனை நினைத்து ஏங்கும் கண்கள்
கடற்க்கரை நாடும் அலைகளைப்போல் உனைத் தேடும் கண்கள்

மணத்தில் மயங்கி, மலரைத் தேடிக்கொண்டு இங்கும் அங்கும்
அலையும் ஒவ்வொரு பட்டாம்பூச்சிப்போல் உனைத் தேடும் கண்கள்

மலை இறங்கி, நிலம் தாண்டீ, கரை எங்கே கரை எங்கே
கடலைத் தேடீக்கொண்டு ஓடும் ஆறுபோல் உனைத் தேடும் கண்கள்

கடலிருந்து காற்றை வ்ழி கேட்டு, வானை வழி கேட்டு,
புவியை தேடி வரும் கார்முகில்போல் உனைத் தேடும் கண்கள்

ஆயிரம் ஆண்டு ஒரே வேட்கையில் தனை எரித்துக்கொண்டு
ஆதவனைச் சுற்றி வரும் வால்மீன்போல், உனைத் தேடும் கண்கள்

உனை புகழ சொல் இல்லாமல் இருக்கிரான் 'வழிப்போக்கன்',
கண்ண்னைத் நாடி பாடிய மீராப்போல், உனைத் தேடும் கண்கள்

Published in Amaravati Poetic Prism 2016
ed. Padmaja Iyengar,
Cultural Centre of Vijayawada & Amaravati

बिन बहर के ग़ज़ल

बिन जुनून के चाहत ऐसी, बिन बहर के ग़ज़ल जैसी,
बिन इज़्तिराब के 'श्क़ ऐसी, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

हर लफ़्ज़ हर याद में ढूँढता हूँ, तुम्हारी आवाज़ की सरगम,
हर बात बेमतलब लगती है, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

वक़्त के भुलाए ख़्वाब जैसे, बिन महक के फूलों जैसे,
ज़िन्दगी बेजान लगती है, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

ख़ामोशी के आसमाँ से आँसुओं की बारिश गिरा दे
बिन बादल के फ़लक ऐसे, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

इन सुनसान दीवारों पर अपनी हंसी के रंग चढा दे,
बिन पनाह के मकान ऐसे, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

लडखडाओ, डगमगाओ, झलक दो के तुम इन्सान हो
बिन जज़्बे के आँखें ऐसे, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

यह कृति उमर बहुभाषीय रूपांन्तरक की मदद से देवनागरी में टाइप की गई है|