Wednesday 9 February 2011

उम्र

हमारी ज़रूरत आपकी मॊहब्बत और उसकी माफ़ी है,
अपनी उम्र हमें न लगाएँ, ख़ुदा का दिया काफ़ी है!

No comments:

Bookmarking

Bookmark and Share