Skip to main content

नक़ाब-ए-ज़र

ओढ़ लिया है जो नक़ाब-ए-ज़र,
ना फ़क़ीर को ना शा'यर को
होता है खौफ़-ए-बदगुमानी

Comments