Monday 24 January 2011

नक़ाब-ए-ज़र

ओढ़ लिया है जो नक़ाब-ए-ज़र,
ना फ़क़ीर को ना शा'यर को
होता है खौफ़-ए-बदगुमानी

No comments:

Bookmarking

Bookmark and Share