Skip to main content

गिला گلہ

गिला शिकस्तों से नहीं, गिला है तो ख़्वाबों से गिला है,
मेहनत से शिकायत नहीं, पर उसके सवाबों से गिला है

तलब-ए-यक़ीन में कोह-ई-तूर तक सफ़र करने को तैयार हूँ,
ऐतराज़ सवालों से नहीं, पर कभी जवाबों से गिला है

क़बूल नहीं है मुसलसल हसरत, कशाकश की अफ़सोसबाज़ी
हालातों से मैं जूझ भी लूँ, लेकिन इन्तख़ाबों से गिला है

पिंजरों को समझता हूँ, पर बेहद्द आसमान कहाँ ले जाएगा
दीवारों से शिकवे नहीं, लेकिन खुले बाबों से गिला है

मन्ज़िल जाने बग़ैर राह-ए-हयात में इख़्तियार बहुत आए,
ख़ौफ़ नहीं आग़ाज़ से ख़ाना बदोश, मगर हिसाबों से गिला है


گلہ شکستوں سے نہیں ، گلہ ہے تو خوابوں سے گلہ ہے
محنت سے شکایت نہیں ، پر اسکے ثوابوں سے گلہ ہے

طلب یقین میں کوہ تور تک سفر کرنے کو تیار ہووں
اعتراض سوالوں سے نہیں ، پر کبھی جوابوں سے گلہ ہے

قبول نہیں ہے مسلسل حسرت ، کشاکش کی افسوسبازی
حالاتوں سے میں جوجھ بھی لوں ، لیکن انتخابوں سے گلہ ہے

پنجروں کو سمجھتا ہوں پر بیحد اسمان کہاں لے جاءیگا
دیواروں سے شکوے نہیں ، لیکن کھلے بابون سے گلہ ہے

منزل جانے بغیر راہ حیات میں اختےار بہت آءے
خوف نہیں آغاز سے خانہ بدوش ، مگر حسابٔوں سے گلہ ہے

Comments

Popular posts from this blog

உன்னைத் தேடும் கண்கள்

நீ வருவாய், நீ வருவாய், உனை நினைத்து ஏங்கும் கண்கள்
கடற்க்கரை நாடும் அலைகளைப்போல் உனைத் தேடும் கண்கள்

மணத்தில் மயங்கி, மலரைத் தேடிக்கொண்டு இங்கும் அங்கும்
அலையும் ஒவ்வொரு பட்டாம்பூச்சிப்போல் உனைத் தேடும் கண்கள்

மலை இறங்கி, நிலம் தாண்டீ, கரை எங்கே கரை எங்கே
கடலைத் தேடீக்கொண்டு ஓடும் ஆறுபோல் உனைத் தேடும் கண்கள்

கடலிருந்து காற்றை வ்ழி கேட்டு, வானை வழி கேட்டு,
புவியை தேடி வரும் கார்முகில்போல் உனைத் தேடும் கண்கள்

ஆயிரம் ஆண்டு ஒரே வேட்கையில் தனை எரித்துக்கொண்டு
ஆதவனைச் சுற்றி வரும் வால்மீன்போல், உனைத் தேடும் கண்கள்

உனை புகழ சொல் இல்லாமல் இருக்கிரான் 'வழிப்போக்கன்',
கண்ண்னைத் நாடி பாடிய மீராப்போல், உனைத் தேடும் கண்கள்

Published in Amaravati Poetic Prism 2016
ed. Padmaja Iyengar,
Cultural Centre of Vijayawada & Amaravati

बिन बहर के ग़ज़ल

बिन जुनून के चाहत ऐसी, बिन बहर के ग़ज़ल जैसी,
बिन इज़्तिराब के 'श्क़ ऐसी, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

हर लफ़्ज़ हर याद में ढूँढता हूँ, तुम्हारी आवाज़ की सरगम,
हर बात बेमतलब लगती है, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

वक़्त के भुलाए ख़्वाब जैसे, बिन महक के फूलों जैसे,
ज़िन्दगी बेजान लगती है, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

ख़ामोशी के आसमाँ से आँसुओं की बारिश गिरा दे
बिन बादल के फ़लक ऐसे, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

इन सुनसान दीवारों पर अपनी हंसी के रंग चढा दे,
बिन पनाह के मकान ऐसे, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

लडखडाओ, डगमगाओ, झलक दो के तुम इन्सान हो
बिन जज़्बे के आँखें ऐसे, बिन बहर के ग़ज़ल जैसे |

यह कृति उमर बहुभाषीय रूपांन्तरक की मदद से देवनागरी में टाइप की गई है|